Categories
Health Care

गर्भावस्‍था में वजन कम करने के सुरक्षित तरीके-Pregnancy me weight loss kaise kare

गर्भावस्‍था में वजन कम करने के सुरक्षित तरीके – pregnancy me weight loss kaise kare

pregnancy me weight loss kaise kareगर्भावस्‍था में महिलाओ के शरीर में कई शारीरिक और भावनात्‍मक बदलाव होते है। जैसे- शरीर का मोटा होना, वजन बढ़ना आदि जिस कारण महिलाए परेशान रहने लगती है। गर्भावस्‍था के समय, महिला का वजन बढ़ना एक आम बात हैं गर्भावस्‍था के समय महिलाओ का वजन इसलिए बढ़ता हैं क्योंकि वह वजन शरीर में बच्‍चे के वजन को सर्पोट करता है। गर्भावस्‍था के समय पेट में बच्‍चा पलता है। जिससे वहां का वजन बढ़ता हैं और इस वजह से आपके पूरे शरीर का वजन भी बढ़ने लगता है।

गर्भवती महिला को कोई भी डॉक्टर कभी भी वजन कम करने सलाह नहीं देता है
यहां तक कि जो महिलाए मोटी और अधिक वजन वाली होती हैं उनको भी गर्भावस्था के समय वजन बढ़ाने के लिए ज्यादातर हमेशा सलाह दी जाती है। हालांकि, कुछ ऐसी चीजें हैं जो आपको अपनी गर्भावस्था के समय फिजूल के बढ़ते वजन को रोकने के लिए करनी चाहिए। और यह आपको पता होना चाहिए।

 

pregnancy me weight loss kaise kare
pregnancy me weight loss kaise kare

गर्भावस्था के समय डाइटिंग करने की कोशिश न करें

गर्भावस्था के समय आपको कभी भी वजन कम करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए जब तक कि आपका डॉक्टर विशेष रूप से आपको वजन कम करने के लिए ना बोले। यह पता लगाने के बाद कि आप गर्भवती हैं, वजन कम करने की शुरुआत न करें। यह वास्तव में प्राकृतिक है कि सभी महिलाओ का गर्भावस्था के दौरान वजन बढ़ता हैं।

मोटे महिलाओं को 5 से 9 किलो के बीच वजन हासिल करना चाहिए।

अधिक वजन वाली महिलाओं को 7 से 11 किग्रा के बीच हासिल करना चाहिए।

सामान्य वजन वाली महिलाओं को 11 से 16 किलोग्राम के बीच वजन बढ़ाना चाहिए।

कम वजन वाली महिलाओं को 13 से 18 किलो के बीच वजन बढ़ाना करना चाहिए।

गर्भावस्था के दौरान परहेज़ आपके बच्चे को आवश्यक कैलोरी, विटामिन और खनिज पदार्थो से वंचित कर सकता है।

 

pregnancy me weight loss kaise kare
pregnancy me weight loss kaise kare

गर्भावस्था के समय कब वजन घट सकता है।

गर्भावस्था के समय वजन कम करने की सलाह नहीं दी जाती है, कई महिलाओं के लिए अपने शरु के तीन महीने के दौरान वजन कम करना काफी सामान्य है। कई महिलाओं को जी मचलना और उल्टी के आम तौर पर  ” Morning sickness “ के रूप में जाना जाता है। जी मचलना यह पहले तीन महीने के दौरान सबसे ज्यादा होता है, और इस दौरान भोजन को कम रखना या सामान्य भोजन करना मुश्किल हो सकता है। मामूली वजन घटाने के बारे में चिंता करने की कोई जरुरत नहीं है, खासकर उन महिलाओ को जिनका वजन अधिक हैं क्योंकि आपका बच्चा आपके वसा ऊतक में कैलोरी के अतिरिक्त भंडार से आकर्षित हो सकता है।

 

pregnancy me weight loss kaise kare
pregnancy me weight loss kaise kare

अपने डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ से बात करें।

यदि आपको लगता है कि आपका वजन ज्यादा बढ़ रहा हैं, तो आप अपने डॉक्टर या गर्भावस्था के आहार विशेषज्ञ से बात करें कि आप अपने वजन बढ़ने से किस प्रकार रोक सकते हैं, जो आपके और आपके बच्चे दोनों के लिए स्वस्थ हो।

कभी भी बिना डॉक्टर की सलाह के अपने खाने में कोई भी अलग से विशेष आहार खाना शुरू न करें। आपको अपने डॉक्टर से भी बात करनी चाहिए, यदि आप पहले तीन महीनो के दौरान किसी भी भोजन को कम नहीं रख सकते हैं या बहुत अधिक वजन कम कर सकते हैं।

 

pregnancy me weight loss kaise kare
pregnancy me weight loss kaise kare

अपनी कैलोरी पर जरुर ध्यान दें।

जिन महिलाओं का गर्भावस्था से पहले सामान्य वजन था, उन्हें अपने दूसरे और तीसरे महीने के दौरान प्रतिदिन अपने भोजन में औसतन 300 कैलोरी अधिक लेनी चाहिए।

  • सामान्य वजन वाली महिलाओं को रोजाना 1900 से 2500 कैलोरी का सेवन करना चाहिए।
  • अपने भोजन में जरुरत से ज्यादा कैलोरी खाने से आपके वजन में वृद्धि हो सकती है।
  • यदि गर्भावस्था से पहले आपका वजन कम था या अधिक वजन था या आप मोटापे से ग्रस्त थे, तो आपको अपने भोजन में कितनी कैलोरी लेनी चाहिए इस बारे में अपने डॉक्टर से जरुर सलाह लेनी चाहिए। ये जरूरतें हर महिला में अलग-अलग होती हैं। यहां तक कि अगर आपकी गर्भावस्था के आसपास कमजोर स्थिति हैं जो आपके वजन को घटा सकती हैं, तो भी आपको अपने कैलोरी सेवन को बनाए रखने या बढ़ाने की जरुरत पड़ सकती है।
  • यदि आप कई बार गर्भवती रह चुकी हैं, तो आपको अपने भोजन में कैलोरी संबंधी जरूरतों के बारे में अपने डॉक्टर से जरुर बात करनी चाहिए।
  • यदि आपके पेट में एक से अधिक बच्चे पल रहे हैं तो आपको अपने भोजन में और भी अधिक कैलोरी की जरुरत पड़ सकती हैं।
pregnancy me weight loss kaise kare
pregnancy me weight loss kaise kare

खाली कैलोरी और अस्वस्थ भोजन से बचें।

खाली कैलोरी से आपका अनावश्यक वजन बढ़ेगा लेकिन उससे आपके बच्चे को किसी भी प्रकार के पोषक तत्व नहीं मिलेगें। अनावश्यक वजन से बचना गर्भावस्था के वजन को बनाए रखने में महत्वपूर्ण है जो आपके लिए स्वस्थ है।

  • बहुत अधिक मीठा और ठोस वसा वाले भोजन से बचें। जैसे – सॉफ्ट ड्रिंक, हार्ड ड्रिंक मिठाई, तली हुई चीजें, फुलक्रीम दूध, डेयरी उत्पाद, मांस, चर्बी आदि को खाने से बचें।
  • प्राकृतिक चीजों का सेवन करें जैसे – हरी साग सब्जियां, फल, dryfruits आदि का सेवन करें।
  • इसके अलावा किसी भी प्रकार का नशा न करें वरना पेट में पल रहे बच्चे पर बुरा असर पड़ सकता हैं। 
pregnancy me weight loss kaise kare
pregnancy me weight loss kaise kare

Prenatal Vitamins

Prenatal vitamins वे विटामिन होती हैं जिनमें दैनिक विटामिन और खनिज होते हैं जिनकी आपको गर्भावस्था के पहले और गर्भावस्था के दौरान आवश्यकता होती है। गर्भावस्था के समय फोलिक एसिड सबसे महत्वपूर्ण विटामिन है। फोलिक एसिड एक बी विटामिन है जो आपके शरीर में कोशिकाओं को बढ़ने और विकसित करने के लिए आवश्यक है।

  • कभी भी Prenatal vitamins पर पूरी तरह निर्भर न रहे भोजन से मिलने वाली विटामिन आपके लिए सबसे अच्छी होती हैं इसलिए रोजाना पौष्टिक आहार का सेवन करें।
  • गर्भवती महिलाओ के लिए फोलिक एसिड सबसे महत्वपूर्ण प्रसवपूर्व विटामिन है जिसे आप ले सकते हैं। यह स्पष्ट रूप से न्यूरल ट्यूब दोष के जोखिम को कम करता है।
  • आयरन, कैल्शियम और ओमेगा -3 फैटी एसिड की खुराक भी आपके बच्चे को उसके विकास में सहायता करते हैं और आपके शरीर को भी स्वस्थ बनाए रखने में सहायक होते है।
  • ऐसे सप्लीमेंट्स से बचें जो अतिरिक्त विटामिन A, D, E, or K प्रदान करते हैं। 
 pregnancy me weight loss kaise kare
pregnancy me weight loss kaise kare

एकसाथ पेट भरकर ना खाये

तीन बड़े भोजन के बजाय दिन भर में कई छोटे-छोटे भोजन करने चाहिए। जो आपको एक गर्भवती महिला के रूप में भी फायदा पहुंचाता है।

अपच, कब्ज, गैस, जी मचलना, नाराजगी आदि एक साथ अधिक भोजन करने से होते हैं। दिन भर में पांच से छह छोटे भोजन खाने से आपके भोजन को पचाने में आसानी होगी यह विशेष रूप से सच है क्योंकि आपका बच्चा बढ़ता है और आपके पाचन अंग भिड़ने शुरू हो जाते है।

 pregnancy me weight loss kaise kare
pregnancy me weight loss kaise kare

गर्भावस्था में पोषक तत्वों से भरपूर एक स्वस्थ आहार खाये।

Folate फोलेट – बी-विटामिन में से एक है और अस्थि मज्जा में लाल और सफेद रक्त कोशिकाओं को बनाने, कार्बोहाइड्रेट को ऊर्जा में बदलने और DNA और RNA का उत्पादन करने के लिए आवश्यक है। गर्भावस्था, शिशु और किशोरावस्था जैसे तीव्र विकास की अवधि के दौरान पर्याप्त फोलेट का सेवन बेहद जरुरी है

  • फोलेट से भरपूर खाद्य पदार्थों में संतरे का रस, स्ट्रॉबेरी, पालक, ब्रोकोली, सेम, और गढ़वाले ब्रेड और अनाज शामिल हैं।
  • पूरे दिन बेहतर महसूस करने के लिए एक अच्छा पौष्टिक नाश्ते के साथ शुरुआत करें।
  • उच्च फाइबर भोजन वजन को नियमित करने और कब्ज, पाचन जैसी समस्याओं को रोकने में मदद करता हैं। साबुत अनाज, सब्जियां, फल और फलियां फाइबर के अच्छे स्रोत होते हैं।
  • जितना हो सके अपने आहार में फल और सब्जियों को शामिल करें।
  • जैतून का तेल, कैनोला तेल और मूंगफली तेल “अच्छे” वसा वाले तेल होते हो जो आपके लिए स्वस्थ विकल्प हैं। 
pregnancy me weight loss kaise kare
pregnancy me weight loss kaise kare

हेल्दी स्नैक्स (Snacks) खाएं।

गर्भावस्था के दौरान स्नैक्स खाना पूरी तरह से स्वस्थ हो सकते हैं, भले ही आपके  डॉक्टर ने आपसे थोड़ी मात्रा में वजन बढ़ाने या वजन घटाने के लिए क्यों न कहा हो। आप अधिक पोषण से भरपूर स्वस्थ स्नैक्स चुनें।

  • आइसक्रीम और शेक की जगह केले की स्मूदी या फ्रोजन ऑल फ्रूट नॉनफैट शर्बत ले सकते हैं।
  • भोजन के बीच में dryfruits, फल, नट मिक्स करके खा सकते हैं।
  • शक्करयुक्त ड्रिंक के बजाय, कम सोडियम वाले वनस्पति रस, फलों के रस का जूस, या सोया दूध के साथ जा सकते हैं। 
 pregnancy me weight loss kaise kare
pregnancy me weight loss kaise kare

हल्का व्यायाम करें।

गर्भावस्था के दौरान आप हलके व्यायाम कर सकते हैं व्यायाम गर्भावस्था के दौरान स्वस्थ वजन प्राप्त करने में सबसे अच्छा रास्ता हैं। स्वस्थ गर्भवती महिलाओं को सप्ताह में एक बार कम से कम, 2 घंटे और 30 मिनट के बीच एरोबिक गतिविधि करनी चाहिए।

  • व्यायाम गर्भावस्था के दौरान दर्द से राहत देता है, नींद में सुधार करता है, भावनात्मक स्वास्थ्य को नियंत्रित करता है और जटिलताओं के जोखिम को कम करता है। इससे गर्भावस्था के बाद वजन कम करना आसान हो सकता है।
  • व्यायाम शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर से जरुर बात करें। यदि योनि से रक्तस्राव होता है या यदि आपका पानी समय से पहले टूट जाता है तो तुरंत व्यायाम बंद कर दें।
  • हलके व्यायाम करने के सबसे अच्छे तरीके जैसे – पैदल चलना, तैरना, नाचना, और साइकिल चलाना जैसे कम प्रभाव वाली गतिविधियाँ शामिल हैं।
  • ऐसी गतिविधिया ना करें, जहाँ आप पेट में लात मार सकते हैं, जैसे किकबॉक्सिंग या बास्केटबॉल। आपको उन गतिविधियों को भी नहीं करना चाहिए जिनके दौरान आप गिर सकते हैं, जैसे घुड़सवारी। स्कूबा डाइविंग ना करें क्योंकि इससे आपके बच्चे के रक्त में गैस के बुलबुले बन सकते हैं।

चेतावनी

कभी भी जान बूझकर गर्भावस्था के दौरान वजन कम करने की कोशिश न करें, जब तक आपका डॉक्टर आपसे स्पष्ट रूप से वजन कम करने के लिए ना बोलें।

फिट रहने के तरीके [ 100% Natural ] इसे भी पढ़ें
इस article से related कुछ भी अगर आपका कोई सवाल का जवाब है तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं।  हमें बहुत ख़ुशी होगी। :):)

 

 

Categories
Sexual Health

शीघ्रपतन का इलाज करें घर बैठे-बैठे | Shighrapatan ka ilaj

घर रहकर करें शीघ्रपतन का इलाज (Treatment of premature ejaculation)

शीघ्रपतन का इलाज – आज हम एक कॉमन समस्या के बारे में बात करेंगे।जिससे बहुत सारे लोग परेशान है जिसका नाम है शीघ्रपतन,  शीघ्रपतन क्या है, शीघ्रपतन क्यों होता है,शीघ्रपतन का इलाज तथा शीघ्रपतन को किस प्रकार रोका जा सकता है। तो आइए शीघ्रपतन के बारे में विस्तार से जान लेते हैं। इस पोस्ट को अच्छी तरह से पढ़े तभी आप शीघ्रपतन का इलाज घर बैठे कर पाएंगे

शीघ्रपतन किसी भी प्रकार का कोई रोग नहीं है, लेकिन फिर भी यह आज एक बड़ी शारीरिक समस्या बनती जा रही है। इस समस्या के कारण लोग आज शादी के बाद खुश नहीं रह पा रहे हैं और यह समस्या सिर्फ हमारे भारत में ही नहीं बल्कि दूसरे देशों में भी देखने को मिलती है, लेकिन  हां यह सच है कि हमारे भारत में यह समस्या शारीरिक होने के साथ-साथ मानसिक ज्यादा है। देखा जाये तो यह समस्या पुरुषों में देखने को मिलती हैं, परंतु आज कल यह समस्या  महिलाओं में भी देखने को मिलती है।

क्या होता है शीघ्रपतन?

सेक्स करते समय चरम सुख पर पहुंचने से पहले ही पुरुष का वीर्य निकल जाना ही शीघ्रपतन कहलाता है। इसका सबसे बड़ा कारण मानसिक कमजोरी का होना है। जो व्यक्ति सेक्स के बारे में जितना कम जानता है, उस व्यक्ति का सेक्स करते समय वीर्य उतनी ही जल्दी निकल जाता हैं। अगर सेक्स के समय को लंबे समय तक बढ़ाना हैं,तो पुरुषों को मानसिक रुप से स्वस्थ और ताकतवर होना पड़ेगा। और हाँ उन्हें खुद पर नियंत्रण करने की आवश्यकता भी है। हमारे भारत के लगभग 30 से 40 प्रतिशत लोग इस समस्या से परेशान है।

वैसे, यह बात भी बिलकुल सही है कि हर पुरुष कभी न कभी अपनी जिंदगी में शीघ्रपतन का शिकार जरुर होता हैं, क्योंकि यह किसी प्रकार की कोई बीमारी बिलकुल नहीं हैं, यह एक प्राकृतिक प्रक्रिया है, जो व्यक्ति की उम्र के अनुसार होती हैं।

शीघ्रपतन का इलाज क्या है ?

यदि देखा जाए तो इस समस्या का कोई बाहरी इलाज नहीं हैं। आप शीघ्रपतन का इलाज घर पर ही कर सकते हैं सबसे पहले आपको अपनी रोजमररा की जिंदगी को बदलने की जरूरत हैं और सबसे खास बात आपको अपने खाने पिने पर विशेष ध्यान देना होंगा। आप भोजन में ऐसी चीजे खाना शुरु कर दे, जो आपको इस समस्या को दूर करने में आपकी मदद करें।

उड़द दाल की खिचड़ी खाये।

उड़द दाल और चावल की खिचड़ी में देसी घी डालकर सुबह – शाम खाये। खिचड़ी खाने के आधे घंटे बाद एक गिलास गुनगुना दूध उसमे एक चम्मच शहद मिलकर पी लें और यह काम लगभग एक महीने तक लगातार करना हैं।

तरबूज से करें शीघ्रपतन का इलाज।

तरबूज को नमक लगाकर खाने से इस समस्या में काफी राहत मिलती हैं या फिर और अच्छे परिणाम के लिए आप तरबूज के छोटे-छोटे टुकड़े करके और उसपर नमक और अदरक पाउडर लगाकर खाये। तरबूज के अंदर फाइटोन्यूट्रिएंट्स पाया जाता हैं जो आपकी सेक्स ऊर्जा यानि कामुतेजना या कामेच्छा बढ़ाने में सहायक होते हैं और आपको शीघ्रपतन की समस्या में भी राहत देते हैं।

अश्वगंधा पाउडर का सेवन करें।

एक चम्मच अश्वगंधा पाउडर और एक चम्मच मिश्री दोनों को एक गिलास हलके गरम दूध में मिलकर एक बार सुबह और एक बार शाम में इसका सेवन करें और ऐसा लगातार 90 दिनों तक करें। इससे आपको शीघ्रपतन में जरुर फायदा मिलेगां।

हरा प्याज़ से करें शीघ्रपतन का इलाज।

इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए हरा प्याज़ खाये जो आपके लिए सबसे बेहतर साबित हो सकता है। हरी प्‍याज के बीजों को अच्छी तरह से पीसकर आप इससे एक गिलास पानी में एक चम्मच पिसे हुए प्याज के बीजो को मिला लें और इस मिश्रण को दिन में तीन वक्त सुबह, दोपहर और रात में भोजन करने से पहले पी लें। और यह प्याज के बीजो का पानी आपको एक महीने तक लगातार पीना है तभी आपको अच्छे परिणाम मिलेगे।

अदरक-शहद का मिश्रण। 

अदरक में एंटी बैक्टीरियल और एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं, जो आपको कई प्रकार की बीमारियों से बचाने में मददगार साबित होता हैं  अदरक में विटामिन भी भरपूर मात्रा में पाया जाते है जो आपके शरीर को ऊर्जा व शक्ति प्रदान करते हैं।

आप अदरक का रस निकलकर और उसमे थोडा शहद मिलकर रख ले और रात को सोने से पहले उस मिश्रण में से आधा चम्मच खा लें, यह मिश्रण आपके शारीर में गर्मी उत्पन करता हैं जो आपके रक्त प्रवाह को और भी बेहतर करता हैं।

लहसुन से करें शीघ्रपतन का इलाज।

लहसुन शीघ्रपतन का इलाज में रामबाण साबित हो सकता हैं। आपके शारीर में किसी भी प्रकार की सेक्स समस्या हो, लहसुन उसमें बहुत ही फायदेमंद साबित  होता है। और इसी प्रकार शीघ्रपतन की समस्या में भी लहसुन एक रामबाण ओषधी साबित हो सकती हैं। रोजाना आपको 3 से 4 कच्चे लहसुन की कलियों को अच्छे से चबा-चबा कर खाना हैं। इसका रोजाना सेवन करने से आपको शीघ्रपतन की समस्या में काफी राहत देखने को मिलेगी।

भिंडी पाउडर से करें शीघ्रपतन का इलाज।

भिंडी पाउडर से शीघ्रपतन का इलाज करें। एक गिलास हलके गरम दूध में दो चम्मच भिन्डी पाउडर मिलकर रात को सोने से आधे घंटे पहले पी ले, दूध के आलावा आप इससे मठा, और पपीते के जूस में भी मिलाकर पी सकते है।

यह काम आपको लगातार 40 दिनों तक करना हैं तभी आपको इसका बहतर फायदा मिलेगां।

पार्टनर से बात करें।

शीघ्रपतन की समस्या एक ऐसी समस्या है, जिससे अविवाहित और विवाहित दोनों ही तरह के लोग परेशान हैं। देखा जाये तो यह समस्या उतनी शारीरिक नहीं जितनी मानसिक है और इसके लिए मनोविज्ञानिक स्थिति का काबू में होना बेहद ही आवश्यक है। वैसे यह समस्या कभी-कभी अपने आप ही संभोग करते-करते ही ठीक हो जाती है। यह समस्या बड़ी उस वक्त बन जाती है जब पुरुष इसके वजह से अपने मन में खुद के लिए बुरा सोचता हैं, या फिर किसी प्रकार की हीन भावना का शिकार हो जाते हैं और खुद को नीचा महशुस करने लगता हैं।

इस समस्या का इलाज करने के लिए बहुत सें यौन रोग विशेषज्ञ मौजूद हैं जो हमेशा आपको ज्यादातर यही सलाह देंगें कि लोगों को अपने सैक्स पार्टनर से इसके विषय में या फिर कोई भी सेक्स से जुडी समस्या के बारे में खुलकर बात करनी चाहिए और यदि आप इसका इलाज करते हैं तो आपको अपने पाटर्नर को भी उसे समय अपने साथ लाना चाहिए। इसका इलाज करने के लिए सेक्स विशेषज्ञ लोंगों के स्वास्थ्य इतिहास और परिवार के मेडिकल इतिहास के विषय में पूरी जानकारी लेते हैं और फिर डॉक्टर उनकी और उनके पार्टनर की सेक्स लाइफ के विषय में भी बात करते हैं। जब वह अच्छे ढंग सें आपका केस स्टडी कर लेते हैं,  तब वह लोंगों को उनका खाना पीना उनकी लाइफ स्टाइल को बदलनें की सलाह देते हैं। और इसी के साथ कुछ सप्लीमेंट खाने की भी सलाह देते हैं।

जिंक

जिंक एक ऐसा तत्व है जो पुरुषों में प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में आवश्यक भूमिका प्रदान करता है। आणविक विज्ञान के अंतर्राष्ट्रीय जर्नल के मुताबिक,  बांझपन की समस्या से परेशान पुरुषों के वीर्य में शुक्राणु की संख्या में जिंक की मात्रा कम पाई गयी थी। जिंक का सेवन करने से यौन समस्यों में सुधार किया जा सकता है। जिंक वाले भोजन के साथ पुरुष जिंक सप्लीमेंट्स भी खा सकते हैं। जिंक पुरुषों के शरीर में सीरमटेस्टोस्टेरोनके स्तर को उच्च कर देता है। जो आपको फिट और स्वस्थ सेक्स करने में मदद करता है।

मैग्नीशियम

पुरुषों में स्वस्थ वीर्य और प्रजनन क्षमता को बेहतर बनानें के लिए मैग्नीशियम तत्व शरीर में बहुत ही आवश्यक होता है। एशियाई जर्नल ऑफ एंड्रोलॉजी की समीक्षा के अनुसार शीघ्रपतन की समस्या को दूर करने के लिए शरीर में मैग्नीशियम का लेवल सही होना बहुत आवश्यक है।

कंडोम का इस्तमाल करें। 

इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए कंडोम आपके लिए बहुत ही फादेमंद साबित हो सकता है। कंडोम पहनकर सेक्स करने से लिंग की संवेदनशीलता कम होती है और जिस कारण आपका वीर्य देर से निकलता है,  हालांकि इसके लिए आप दुसरे तरह के कंडोम का भी इस्तमाल कर सकते हैं। जिन्हें “क्लाइमैक्स कंट्रोल” कंडोम कहा जाता हैं। इसके अलावा आप इस समस्या छुटकारा पानें के लिए आप किसी अच्छे सेकसोलॉजिस्ट से संपर्क कर सकते हैं। वह आपको एक बेहतर सलाह के साथ लिंग पर लगाने के लिए कोई क्रीम या खाने के लिए कुछ दवाएं या सुप्लिमेंट भी दे सकता है।