पानी कब कितना और कैसे पिए – Right way to drink water in hindi

Page Contents

पानी कब कैसे और कितना पीना चाहिए – Pani kab kaise aur kitna pina chahiye in hindi

पानी कब कितना और कैसे पिए ? यह एक ऐसा सवाल हैं – जिसका जवाब हर विशेषज्ञ अलग देता है। इस सवाल पर सबकी राय अलग-अलग होती हैं और सभी की राय लगभग सही होती हैं, क्योंकि अगर आप इसके पीछे का तर्क समझते हैं, तो आपको पता चलेंगा।

असल में हमारे शरीर को पानी की आवश्यकता विभिन्न कारकों पर निर्भर करती है। जैसे हमारे रहन-सहन का क्षेत्र यानी वातावरण, हमारे जीवन शैली और हमारे स्वास्थ्य पर काफी निर्भर करता है। लेकिन आपने ज्यादा डॉक्टरों को यह कहते जरूर सुना होगा, कि 1 दिन में 8 से 10 गिलास पानी पीना सही रहता है

लेकिन अगर आयुर्वेद की मानें, तो आयुर्वेद इन सबको बिल्कुल नकार देता है। आयुर्वेद के अनुसार हमारे शरीर को जब भी किसी चीज की जरूरत पड़ती है, तो वह खुद ही हमें बता देता है। जैसे – भूख-प्यास लगना, नींद आना, पेशाब और सौच आना व अन्य संकेत हमें स्वयं ही मिल जाते हैं।

इसलिए जब भी आपको भूख लगे तभी खाना खाए। जब प्यास लगे तब ही पानी पिए। आपको दिमाग से आने वाले इन संकेतों पर ध्यान देना चाहिए।

24 घंटे में कितना पानी पीना चाहिए? – How much drink water in a day in hindi

1 दिन में 8 से 10 गिलास पानी पीना चाहिए यानी कम से कम 2 लीटर पानी ऐसे मशवरे बिना मांगे खूब मिलते हैं।

“जल ही जीवन हैं” खूब पानी पियो पानी के बिना जीवन की कल्पना करना भी संभव नहीं है।

लेकिन क्या आप जानते हैं। पुराने समय में पानी को लेकर कुछ और ही विचार थे।

19वीं सदी के अमीर लोग पानी पीना अपना अपमान समझते थे। उनका मानना था, कि पानी से पेट भरना तो गरीबों का काम है।

हालांकि इस समय सभी लोग खूब पानी पी रहे हैं। क्योंकि लोगों को बताया जा रहा हैं कि ज्यादा पानी पिने से अच्छी सेहत, चमकदार त्वचा, शरीर को साफ़ करता हैं और इसके आलावा खूब पानी पिने से कैंसर, ज्यादा वजन से छुटकारा पाना व कई अन्य नुस्खे खूब चर्चा में हैं।

आयुर्वेद के अनुसार पीने के पानी का सही तरीका – The right way of drinking water as per Ayurveda

1 दिन में 8 से 10 गिलास पानी पीने के इस नियम को आयुर्वेद गलत बताता है। आयुर्वेद के अनुसार पानी तभी जब आपको प्यास लगे।

अधिक पानी पिने से कफ और वात में वृद्धि होती हैं और पित्त में कमी आती हैं। पित्त में कमी का मतलब आपके पाचन तंत्र में गड़बड़ी।

पित्त का संतुलन होना जरुरी हैं। अगर पित्त का संतुलन सही हैं तो आपका पाचन तंत्र भी सही हैं।

वैसे इन तीनों दोषों का संतुलित होना जरूरी है क्योंकि अगर इन तीनों दोषों का संतुलन सही है, तो हमारे शरीर का संतुलन में बिल्कुल सही रहता है। इसलिए ज्यादा पानी पीने से बचें तभी पानी पिए जब आपको प्यास लगे।

पानी पीने का सही समय – Pani pine ka sahi time in Hindi

पानी कब पीना चाहिए यह एक ऐसा सवाल हैं। जिसके आपको बहुत सारे अलग-अलग जबाब मिल जायेगे।

कुछ डॉक्टर्स कहते हैं कि पानी खाना खाते समय पानी नहीं पीना चाहिए। भोजन करने के कम से कम एक घंटे बाद पानी पीना चाहिए।

वही कुछ डॉक्टर्स का कहना है कि आधे घंटे पहले पानी पीना सही हैं। और भोजन के एक घंटे बाद या आप भोजन करते समय बीच-बीच में एक दो घूट पानी पी सकते हैं। लेकिन समझ में नहीं आता हैं, कि पानी पीने का सही समय क्या है।

अगर आयुवेद से सलाह ले, तो आयुर्वेदिक डॉक्टर हमेशा आपको बतायेगे कि भोजन के तुरंत बाद पानी पीना जहर के सामान हैं।

खाना खाने से एक घंटे पहले और खाना खाने के एक घंटे बाद ही पानी पीना चाहिए। और पानी तब ही पिए जब आपको प्यास लगें। हर समय पानी पीना भी सही नहीं हैं।

खाना खाते समय पानी पीना चाहिए कि नहीं – khana khate time pani pina chahiye ya nahi

भोजन करते समय पानी पीना चाहिए या नहीं इसे लेकर भी लोग काफी परेशान हैं।

खाना खाते समय पानी पीना सही भी हैं और और गलत भी।

सही कब हैं – भोजन के बीच में पीना पीना सही है। लेकिन सही तब हैं जब आप बीच में एक या दो घूट पानी पीते हैं।

गलत कब हैं – जब आप भोजन से पहले या खाना कहते समय बीच में एक गिलास पानी पी लेते हैं, तो यह बिलकुल गलत हैं।

जब आप भोजन करते समय ज्यादा पिने पी लेते है या खाना खाने से तुरंत पहले या खाना खाने के तुरंत बाद, तो फिर आपका भोजन सही से पचता नहीं हैं।

आयुर्वेद कहता हैं कि इससे आपकी पाचन अग्नि धीमी पद जाती हैं और आपका खाना पचने के वजाय सड़ता हैं।

खाना खाने के बाद पानी पीना चाहिए या नहीं – khana khane ke baad pani pina chahiye ya nahi

भोजन करने के बाद पानी पीना चाहिए या नहीं –

तो इसका सीधा जबाब है – नहीं

खाना खाने के तुरंत बाद पानी नहीं पीना चाहिए। इससे आपकी पाचन अग्नि धीमी पद जाती हैं और आपका खाना सही से नहीं पचता हैं।

खाना खाने से पहले पानी पीना चाहिए या नहीं – whether you should drink water before eating

भोजन करने से कम से कम आधे एक घंटे पहले पानी पीना चाहिए, क्योंकि खाना खाने के तुरंत पहले पानी पिने से आप सही से खाना नहीं खा पायेगे और फिर उसे पचने में भी दिक्कत होंगी।

खाना खाने के बाद पानी कब पीना चाहिए- khana khane ke baad paani kab pina chahiye

खाने के बाद पानी कब पीना चाहिए यह भी देख काफी भ्रमित सवाल है।

आयुर्वेद के अनुसार खाना खाने के 1 घंटे बाद पानी पीना सही रहता है। क्योंकि इतनी देर में खाना पच लेते हैं और आपको प्यास भी तभी लगती हैं तो पानी हमेशा भोजन करने के कम से कम एक घंटे बाद ही पाए।

पानी पिने का सही तरीका – Pani pine ka sahi tarika

अगर आप पानी को सही ढंग से पीते हैं तो यह अम्रत के समान हैं। किसी भी अच्छी चीज को अगर गलत ढंग से खाया-पिया जाये, तो उससे हमें फायदा होने के वजय नुक्सान हो जाता हैं।

पानी पिने का सही तरीका अगर आप नहीं जानते हैं, तो बताये गए बिन्दुओं को ध्यान से पढ़े।

आयुर्वेद के अनुसार पानी पीने का सही तरीका – According to Ayurveda, right way to drink water in hindi

  • पानी हमेशा बैठकर ही पीना चाहिए। ठीक उसी प्रकार जिस तरह आप बैठकर खाना खाते हैं।
  • हमेशा पानी को घूट-घूट कर पिए। जैसे कि आप पानी नहीं चाय पी रहें हों।
  • एक बार में बस एक ही गिलास पानी पीना चाहिए (लगभग 240 ML)। इससे ज्यादा पानी पिने से शरीर के लिए इसे अवशोषित करना थोडा मुस्किल हो जाता हैं।
  • पानी हमेशा हल्का गरम या फिर नार्मल पिए। कभी भी ज्यादा ठंडा या बर्फ का पानी न पिए। ज्यादा ठंडे पानी को अवशोषित करने के लिए शरीर को अधिक कैलोरी खर्च करनी पड़ती हैं।
  • भोजन करने से तुरंत पहले या भोजन करने के तुरंत बाद पीना पीना जहर के समान हैं। क्योंकि ज्यादा पानी आपकी पाचन क्रिया को धीमा कर देता हैं। जिसके कारण भोजन सही ढंग से नहीं पचता हैं।
  • आप भोजन करते समय भोजन के बीच-बीच में एक-दो घूंट पानी पी सकते हैं।
  • दिन में जब भी प्यास लगे तब ही पानी पिए प्यास न लगने पर भी पानी पीते रहना सही नहीं हैं।
  • आयुर्वेद के अनुसार पानी शरीर की प्राकृतिक आवश्यकता है। प्यास लगने शरीर हमें तुरंत संकेत देता हैं।

पानी से जुड़े कुछ अन्य प्रश्न – Some other questions related to water

पानी कब कितना और कैसे पिए इसके आलावा भी  लोगों के मन में पानी को लेकर काफी सवाल जबाब है और कुछ भरम भी हैं, तो उन सवाल और भरम को जानते हैं और उन्हें दूर करते हैं।

  1. रात को कितना पानी पीना चाहिए? – raat me kitna pani pina chahiye

रात हो या दिन पानी हमेशा एक गिलास ही पिए लगभग 240 ml या ज्यादा से ज्यादा एक बार में 300 ml पानी पिए इससे ज्यादा नहीं।

वरना पेट में दर्द हो सकता हैं क्योंकि इससे ज्यादा पानी शरीर एक बार में अवशोषित नहीं कर पाता।

  1. गर्मी में कितना पानी पीना चाहिए – Garmi me kitna pani piye

यह बात सही हैं कि सर्दियों के मुकाबले गर्मियों में शरीर को अधिक पानी कि जरुरत होती हैं। लेकिन इसका यह मतलब बिलकुल नहीं हैं, कि आप ढेर सारा पानी पियो।

आयुर्वेद कहता हैं। जब भी शरीर में पानी की 1% भी कमी आती हैं, तो हमें तुरंत प्यास लगती हैं और आपको जब भी प्यास लगे तब ही पीनी पिए सर्दी हो या गर्मी।

  1. खाली पेट पानी कितना पीना चाहिए – subah khali pet kitna pani pina chahiye

सुबह खली पेट आप एक से दो गिलास पानी पी सकते हैं। सुबह के समय कोई दिक्कत नहीं हैं, सुबह खली पेट पानी पीना सही रहता हैं।

इससे आपका पेट साफ़ रहता हैं और शौच भी अच्छी तरह से हो जाता हैं।

  1. 1 दिन में कितना लीटर पानी पीना चाहिए – Ek din me kitne litre pani pina chahiye

पूरी दुनिया में 2 से 3 लीटर या 8 से 10 गिलास पानी पिने का भरम फैला हुआ हैं और इस पैमाने के हिसाब से कई पानी की भारी कमी के शिकार हैं। पानी लीटर और ग्लास के हिसाब से कभी मत पियो।

जैसे कि मैंने पहले भी बताया हैं और फिर से बता रहा हूँ। शरीर को जिनते भी पानी की आवश्यकता होती हैं वो मांग लेता हैं।

ऐसा आयुर्वेद कहता हैं और कुछ जानकर भी यही मानते हैं।

इसे पढ़ें – आयुर्वेद के अनुसार दूध कब कितना और कैसे पिए

निष्कर्ष – The conclusion

आयुर्वेद के अनुसार पानी तब पिए जब आपका शरीर मांगे।

1 दिन में 8 से 10 गिलास पानी या 2 से 3 लीटर पानी पिने कि इस सोच को बदलें।

हमें उतना ही पानी पीना चाहिए जितना शरीर मांगें।

पानी कब पीना हैं, कैसे पीना हैं और कितना पीना हैं मतलब पानी कब कितना और कैसे पिए  अब आप जान चुके हैं।

आशा करता हूँ। आप पानी को लेकर फिर कभी परेशान नहीं होंगें कि पानी कब कितना और कैसे पिए

Thank You !

1 thought on “पानी कब कितना और कैसे पिए – Right way to drink water in hindi”

Leave a Comment