हस्तमैथुन के 15 आश्चर्यजनक प्रभाव | Hastmethun Effect in Hindi

Page Contents

मस्तिष्क पर हस्तमैथुन के 15 आश्चर्यजनक प्रभाव – Hastmethun Effect in Hindi

भारत के सर्वश्रेष्ठ सेक्सोलॉजिस्ट डॉ. चिराग भंडारी के अनुसार, जो व्यक्ति एक महीने में 21 बार से अधिक बार हस्तमैथुन करता है, उसे हस्तमैथुन के कुछ दुष्प्रभावों का सामना करना पड़ सकता है। उनका कहना है कि पुरुष हस्तमैथुन या खुद को उत्तेजित करने के लिए अलग-अलह तरीकों का उपयोग करते हैं।

जब कोई व्यक्ति खुद को उत्तेजित करने या इरेक्शन को महसूस करने की उम्मीद के साथ बैठता या लेटता हैं और अपने जननांगों को छूता हैं, दबाता हैं, मोड़ता हैं या स्ट्रोक करता हैं, तो वह व्यक्ति मूल रूप से हस्तमैथुन करने की कोशिश कर रहा है।

इन उत्तेजक आदतों के कारण कभी-कभी सेक्स करते समय कुछ समस्याएं होती हैं। (जैसे जल्दी झड जाना, संभोग करने का कम मन होना, संभोग से ज्यादा हस्तमैथुन से सन्तुष्टि मिलना, अपने पार्टनर को संतुष्ट ना कर पाना आदि)

 

हस्तमैथुन क्या होता हैं – Hastmethun kya hota hai in Hindi

जब कोई पुरुष या महिला अपने हाथ या उंगलियों का उपयोग करके अपने जननांगों को उत्तेजित करता है, तो उसे हस्तमैथुन कहते है। हस्तमैथुन की लत एक पुरुष या महिला किसी को भी लग सकती हैं और जरूरी नहीं कि हस्तमैथुन अकेला किया जाये इसे दो व्यक्ति एक साथ या ग्रुप में भी कर सकते हैं। हस्तमैथुन बहुत से लोगो के लिए सामान्य हो सकता हैं। (जैसे अपने पार्टनर के बिना हस्तमैथुन करते समय उसे महसूस करना।)

स्वीडिश रिसर्च काउंसिल शोध के अनुसार, महिलाओं की तुलना में पुरुषों अधिक हस्तमैथुन करते हैं। यह वैज्ञानिक रूप से भी सिद्ध है कि स्खलन के बाद पुरुष चिंता या तनावमुक्त महसूस करते हैं। लेकिन क्या इसका मतलब यह है कि हस्तमैथुन एक स्वस्थ आदत है।

“पोर्न देखने से उत्तेजना अधिक बढ़ जाती हैं” जिसके कारण व्यक्ति खुद से कंट्रोल खो देता हैं और हस्तमैथुन करके की दम लेता हैं। एक रिसर्च हमें बताती हैं कि 90% लोग पोर्न देखने के बाद हस्तमैथुन करते हैं।

पोर्न देखकर हस्तमैथुन करने से पुरुषों के मन में अवास्तविक उम्मीदें पैदा हो सकती हैं और जब महिला साथी संभोग के दौरान इसे पूरा नहीं कर पाती है तो वे निराश हो सकते हैं।

 

भारत में सेक्सोलॉजिस्ट द्वारा सुझाए गए हस्तमैथुन के प्रभाव Hastmethun Effect In Hindi

भारत में सेक्सोलॉजिस्ट द्वारा सुझाए गए हस्तमैथुन के 15 आश्चर्यजनक प्रभाव। तो आइये देखते हैं हस्तमैथुन करने से होने वाले नुकसान।

 

हस्तमैथुन के दुष्प्रभाव – Hastmethun Karne Se Nuksaan

जब हस्तमैथुन को अत्यधिक किया जाता हैं और गलत तरीके से किया जाता हैं। तो हस्तमैथुन के नुकसान हो सकते हैं। हस्तमैथुन से होने वाले नुकसान निचे दिए गए हैं।

 

शुक्राणुओं की संख्या में कमी – Decreased Sperm Count in Hindi

यदि एक महीने में 15 बार से कम व सीमित समय के लिए हस्तमैथुन किया जाए, तो यह एक स्वस्थ आदत हो सकती है। लेकिन जब कोई पुरुष या महिला हस्तमैथुन को कुछ ज्यादा ही करने लगते हैं, तो यह अत्यधिक हो जाता हैं। जिसके कारण पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन में कमी आ सकती हैं। जिससे आपके शुक्राणुओं की संख्या में कमी आ सकती हैं।

 

स्वप्नदोष की समस्या – Nightfall Problem In Hindi

जब सोते समय पुरुष नींद में ही वीर्य स्खलन करते हैं या गंदे सपने या सपने में खुद को किसी महिला के साथ सेक्स करते देखते हैं, तो पुरुष का नींद में ही वीर्य निकल जाता हैं। जिसे स्वप्नदोष यानि नाइटफॉल की समस्या कहते है। जो पुरुष बहुत अधिक पोर्न विडियो देखते हैं या अत्यधिक हस्तमैथुन करते हैं। तो उन लोगो को भी नाइटफॉल की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। जो हस्तमैथुन का एक प्रमुख दुष्प्रभाव है।

 

एकाग्रता में कमी – Loss Of Concentration in Hindi

जो पुरुष रोजाना दिन में अधिक बार हस्तमैथुन करते हैं, तो उन लोगों को हस्तमैथुन करने की लत लग जाती हैं। जिसके कारण वे अपनी पढाई या अपने काम पर फोकस नहीं कर पते हैं। अत्यधिक हस्तमैथुन लोगो को असफलता की तरफ ले जाता हैं। साथ ही यह शरीर व दिमाग को कमजोर बनता है।

 

अकेले रहने की आदत पड़ना – Social Distancing in Hindi

एक मनोवैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार, जो पुरुषों अधिक हस्तमैथुन करता हैं, वह इंसान अकेला रहना ज्यादा पसंद करता है। हस्तमैथुन की लत से पीड़ित रोगी बाहर जाने से ज्यादा घर पर रहना पसंद करता है। वह अपना ज्यादातर समय अकेले कमरे में बिताता हैं। वह सार्वजनिक स्थानों से दूर रहता हैं। इसका सबसे मुख्य कारण हैं हस्तमैथुन। क्योंकि यह लोगो के कॉन्फिडेंस को ख़तम कर देता है।

 

प्रोस्टेट कैंसर – Prostate Cancer in Hindi

प्रोस्टेट एक छोटी ग्रंथि है जो अर्ध-तरल पदार्थ का उत्पादन करती है। जो शुक्राणु को तैरने और गति में मदद करती हैं। जब एक आदमी गलत तरीके से हस्तमैथुन करता हैं। यानि हस्तमैथुन करने के सही तरीको से अनजान होता है, तो वह व्यक्ति गलत तरीके से हस्तमैथुन करके उन ग्रन्थि को नुकसान पहुंचता हैं। जिससे प्रोस्टेट कैंसर हो सकता है, जो हस्तमैथुन के सबसे घातक दुष्प्रभावों में से एक है।

 

गले में खराश होना – Sore Genitals in Hindi

जब कोई पुरुष बहुत अधिक बार हस्तमैथुन करते हैं, तो उसे शोफ की बीमारी पकड़ लेती हैं। जिससे लगातार जलन के साथ लिंग में सुजन आ जाती हैं। एडिमा एक ऐसी बीमारी है, जिसमें शरीर के ऊतकों में तरल पदार्थ वीर्य चले जाने के कारण शरीर का हिस्सा सूज जाता है। यह आमतौर पर तब होता है, जब हस्तमैथुन करते समय शरीर के कुछ हिस्सों के आसपास अत्यधिक दबाव डाला जाता है।

 

धात गिरने की समस्या – Dhat Rog in Hindi

धात गिरना भारत में पुरुषों की मुख्य यौन समस्याओं में से एक है। धात गिरना मतलब जब कोई पुरुष  पेशाब करना हैं, तो उस समय पेशाब के साथ वीर्य भी निकल जाता हैं।

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ मेडिकल रिसर्च एंड हेल्थ साइंसेज द्वारा जनवरी 2015 में प्रकाशित शोध के अनुसार, “धात गिरना हस्तमैथुन का एक संभावित दुष्प्रभाव हो सकता है। धात गिरने के कारण पुरुषों शीघ्रपतन की समस्या और इरेक्टाइल डिसफंक्शन का मुख्य कारण बन सकता है।

 

स्किन एलर्जी – Skin Allergy in Hindi

हस्तमैथुन करते समय लिंग या अपने जननांगों को बहुत से से पकड़ना या अधिक जोर से हिलाना या दबाने से जननांगों  की स्किन पर चकत्ते पैदा कर सकते है। स्किन लाल पड़ सकती हैं और जिससे स्किन पर दाने पैदा हो सकती हैं। ये चकत्ते त्वचा में सूखेपन या त्वचा के संक्रमण के कारण होते हैं। हस्तमैथुन करते समय हाथों को अच्छी तरह से ना धोना यानि गंदे हाथों से ही हस्तमैथुन करने से स्किन एलर्जी हो सकती है।

 

उच्च रक्त चाप – High Blood Pressure in Hindi

यौन चिकित्सा के एक अंतरराष्ट्रीय अध्ययन के अनुसार, जब भी पुरुष स्खलन करते हैं, तो पुरुषों के शरीर में ब्लड प्रेशर बढ़ जाता हैं, और तब एड्रेनालाईन रश में वृद्धि होती है। जो मुख्य रूप से ब्लड प्रेशर बढ़ने का कारण बनता सकता है।

 

आत्म सम्मान खो देना – Lose Self Esteem in Hindi

जिन पुरुषों को हस्तमैथुन करने की आदत पड़ जाती हैं। ऐसे लोग अधिक चिंता में रहने लगते हैं और तनाव का शिकार भी हो सकते हैं। ये लोग अपना आत्मविश्वास खो देते हैं और हमेशा लोगों के आस-पास नर्वस रहते हैं। हस्तमैथुन करने से उन्हें थोड़ी देर के लिए आराम तो मिलता है। लेकिन बाद में वे बुरा महसूस करते हैं और खुद को दोष देते हैं।

 

लिंग में टेढ़ापन – Curvature Of The Penis in Hindi

हस्तमैथुन करते समय लिंग को गलत तरीके से पकड़ना, अधिक दबाब डालना, या हमेशा एक ही हाथ का बार–बार इस्तेमाल करने से लिंग में टेढ़ापन आ सकता हैं। जो लोग अत्यधिक हस्तमैथुन करते हैं उन लोगो का लिंग टेढ़ा हो सकता हैं। जो बाद में उनके लिए दिक्कते पैदा कर सकता हैं।

 

अधिक नींद आना – Getting More Sleep in Hindi

हस्तमैथुन करने के बाद नींद का आना लाजमी हैं। बहुत से लोग तो सिर्फ नींद के लिए ही हस्तमैथुन करते हैं। हस्तमैथुन करने से एक हार्मोन निकलता हैं, जिसे डोपोमिन कहते हैं। इसके ऑक्सिटॉक्सिन और एंडोर्फिन हॉर्मोन्स रिलीज होते हैं। जो दिमाग को रिलेक्स फील कराता हैं, जिससे व्यक्ति को नींद आने लगती हैं।

 

शारीरिक कमजोरी – Physical Weakness in Hindi

रोजाना हस्तमैथुन करना एक स्वस्थ आदत बिलकुल नहीं हैं। यदि कोई इंसान रोजाना अधिक हस्तमैथुन करता हैं, तो वह शारीरिक रूप से कमजोर हो सकता हैं। आप यह बात तो जानते ही हैं जब तक हमारी बॉडी में वीर्य रहता हैं तब तक आप एक्टिव रहते हैं और हस्तमैथुन करके वीर्य निकालने के बाद आप डाउन फील करते हैं और जिससे धीरे-धीरे शरीर में कमजोरी आना शुरू हो जाती हैं।

 

मानसिक दुर्बलता – Mental Weakness in Hindi

हस्तमैथुन करने के बाद अधिकतर लोग बुरा महसूस करते हैं। जिससे दिमागी तनाव होने लगता हैं और व्यक्ति दिमागी रूप से कमजोर होने लगता हैं। हस्तमैथुन करना गलत नहीं है। लेकिन अधिक मात्रा में करना बहुत गलत हैं और जिससे आपको इसकी लत भी लग सकती हैं।

 

नपुंसकता – Impotence in Hindi

अगर हस्तमैथुन नियमित रूप से सही समय पर किया जाये तो यह गलत नहीं हैं। लेकिन जब आप इसे रोजाना करने लगते हैं, तो इससे आपके वीर्य में शुक्राणुओं की कमी आ सकती हैं। जिससे आप नपुंसकता का शिकार हो सकते हैं।

इसे पढ़ें – हस्तमैथुन सही या गलत A to Z पूरा ज्ञान

 

हस्तमैथुन के फायदे – Hastmethun Karne Se Fayde

अगर हस्तमैथुन को नियमित रूप से सही समय पर सही ढंग से किया जाये, तो हस्तमैथुन के फायदे भी हो सकते हैं।

एक अध्धयन के अनुसार, जो नियमित रूप से हस्तमैथुन करने वाले पुरुषों और महिलाओं के बारे में दिलचस्प तथ्य बताती है कि उनका यौन जीवन बेहतर है और वे स्वस्थ हैं। हस्तमैथुन एक और यौन गतिविधि है जो आनंद और संतुष्टि के माध्यम से तनाव को कम करने में मदद करती है।

  • हस्तमैथुन से यौन उत्तेजना का आनंद मिलता हैं।
  • हस्तमैथुन करने से व्यक्ति अपने शरीर से अधिक परिचित हो जाते हैं।
  • हस्तमैथुनकरने से एक दूसरे को दिखा सकते हैं कि वे कैसा महसूस करते हैं और किस जगह छूने से अधिक उत्तेजित होते हैं।
  • हस्तमैथुन उन पार्टनर की भी मदद करता है जो किसी कारण संभोग नहीं कर सकते।
  • हस्तमैथुन व्यक्ति को अपने साथ अपने फोरप्ले अनुभव को बढ़ाने में मदद करता है।
  • हस्तमैथुन का दूसरा मुख्य लाभ आत्म-संतुष्टि है। जो पुरुष अभी तक अविवाहित हैं वे हस्तमैथुन के माध्यम से खुद को संतुष्ट कर सकते हैं।
  • यौन शिक्षा कार्यक्रमों के अनुसार हस्तमैथुन देश में बलात्कार के मामलों को कम करने में मदद कर सकता है। हम सभी के लिए यह समझना महत्वपूर्ण है कि यौन क्रिया में लिप्त होना किसी भी इंसान के लिए एक प्राकृतिक घटना है।

इसे एक बुनियादी जरूरत मानते हुए, इसका आनंद लेने के लिए हस्तमैथुन सबसे अच्छा संभव उपाय है। हस्तमैथुन को महीने में केवल सीमित दिनों के लिए सही ढंग व तरीके से किया जाए, तो यह सुरक्षित हो सकता है। लोगों को हस्तमैथुन के बारे में फैली अफवाओ से बचना चाहिए।

 

हस्तमैथुन कितना करना चाहिए – Hastmethun kitna krna chahiye in Hindi

अक्सर लोग पूछते हैं कि एक दिन में हस्तमैथुन कितना करना चाहिए। जो लोग हस्तमैथुन करते हैं, वे यह बात अच्छी तरह से जानते हैं कि कितनी बार हस्तमैथुन करके वे अच्छा फील करते हैं। एक दिन में हस्तमैथुन कितना करना चाहिए यह आप पर निर्भर करता हैं।

विज्ञान के अनुसार, एक महीने में 21 बार से ज्यादा हस्तमैथुन नहीं करना चाहिए। अगर आप इससे ज्यादा हस्तमैथुन करते हैं, तो आपको इसके नुकसान हो सकते हैं। यानि एक महीने में 21 दिन से कम हस्तमैथुन करना चाहिए।

Share

1 thought on “हस्तमैथुन के 15 आश्चर्यजनक प्रभाव | Hastmethun Effect in Hindi”

Leave a Comment