ताड़ासन योग के फायदे, विधि, समय, सावधानियां व पूरी जानकारी

ताड़ासन योग करने के फायदे, तरीका और सावधानियां – Tadasana benefits in Hindi

ताड़ासन आमतौर पर सभी खड़े योग पोज़ के लिए शुरुआती स्थिति है और सूर्य नमस्कार में पहला पोज़ है। इसे कभी-कभी आराम करने की मुद्रा के रूप में भी किया जाता है और यह एक महान तटस्थ स्थिति के साथ-साथ मुद्रा में सुधार के लिए एक सबसे अच्छा आसन मना जाता है।

आइये जानते हैं ताड़ासन योग क्या है, ताड़ासन योग करने की विधि, ताड़ासन योग करने के फायदे, ताड़ासन योग करने का सही समय यानि ताड़ासन कब करना चाहिए और ताड़ासन योग करते समय सावधानियां क्या बरतनी चाहिए और इससे जुड़े कुछ अन्य सवालों के जवाब भी जानेगे

 

ताड़ासन योग क्या है – Tadasana kya hai in Hindi

ताड़ासन को समस्थिति भी कहा जाता है ताड़ासन योग का नाम दो संस्कृत शब्दों से मिलकर बना है। ‘ताड़’ का मतलब होता है ‘पर्वत’ और ‘आसन ’का अर्थ होता है ‘मुद्रा’, यानि की इस आसन का अर्थ है पर्वत की मुद्रा में होना। हालांकि इस आसन का अभ्यास करना बहुत ही आसान और सरल है।

ताड़ासन योग को खड़े रहकर करने वाले योगासनों की नींव माना जाता है। ताड़ासन योग का एक मूलभूत आसन है क्योंकि यह आसन अनेक आसनों का आधार माना जाता है।

ताड़ासन को माउंटेन पोज़ भी कहा जाता हैं अन्य सभी महत्वपूर्ण आसनों को करने से पहले आपको ताड़ासन योग सीखना और करना होगा ताड़ासन योग क्लास में सिखाये जाने वाले पहले शुरुआती आसनों में से एक है। इस आसन को करते समय आपको जमीन पर स्थिर रहना है और पृथ्वी से जुड़ना है ताकि शरीर में ऊर्जा का प्रवाह हो सके। 

इस योग को करने से वास्तव में आपके पूरे शरीर और दिमाग को उर्जा मिलती हैं। ताड़ासन योग मुद्रा आपके शरीर की लंबाई बढ़ाने और शरीर को पैरों से लेकर बाजुओं तक फैलाने के लिए एक बहुत ही प्रभावशाली आसन हैं। आइए जानते हैं ताड़ासन के फायदे और ताड़ासन करने का तरीका।

 

ताड़ासन योग के अन्य नाम – Other names for Tadasana in Hindi

ताड़ासन को और भी कई नामों से जाना जाता है। ताड़ासन योग के अन्य नाम यहाँ दिए गए हैं पेश हैं इसके कुछ नाम –

  • पर्वतासन – mountain pose
  • पाम ट्री पोज़ – palm tree pose
  • माउंटेन पोज़ – mountain pose
  • स्वर्गीय योग – heavenly yoga

 

ताड़ासन योग करने की विधि – Tadasana karne ka sahi tarika

किसी भी योग मुद्रा को गलत तरीके से करने से नुकसान हो सकता है। इसलिए यह बहुत जरूरी है कि कोई भी आसन करने से पहले यह जान लें कि उसे करने का सही तरीका क्या है तो आइए जानते हैं कि ताड़ासन करने का सही तरीका क्या है।

  • सबसे पहले एक साफ और खुली जगह का चुनाव करें और योगा मैट बिछा दें।
  • अब पैरों और कमर को सीधा करके योगा मैट पर खड़े हो जाएं।
  • इस दौरान एड़ियों को एक-दूसरे के पास रखें दोनो पंजों को मिलाकर उनके बीच 10 सेंटी मीटर की जगह छोड़ कर खड़े हो जायें
  • शरीर को स्थिर करें और शरीर का वजन दोनों पैरों पर समान रूप से बनाये रखें।
  • भुजाओं को सिर के उपर उठाएं। उंगलियों को आपस में फसा कर हथेलियों को ऊपर की तरफ रखें।
  • अगले स्टेप में हथेलियों को आपस में पकड़कर ऊपर उठाएं। हथेलियों की दिशा आकाश की ओर होनी चाहिए।
  • सिर  को बिना हिलाए बिलकुल सामने दीवार पर एक बिंदु पर आँखें टीकाकर रखें। पुर अभ्यास के दौरान आंखें इस बिंदु पर टिकाकर रखें।
  • अब धीरे-धीरे सांस लेते हुए पंजों के बल खड़े होकर शरीर को ऊपर की ओर खींचें।
  • बाज़ुओं, कंधों और छाती को ऊपर की तरफ खींचें और फैलाएं। पैर की उंगलियों पर आ जायें ताकि दोनो एड़ी उपर उठ जायें।
  • बिना संतुलन और बिना पैरों को हिलायें, पूरे शरीर को ऊपर से नीचे तक ताने।
  • जब शरीर पूरी तरह से खिंच जाए तो कुछ देर इसी मुद्रा में रहने की कोशिश करें।
  • श्वास लेते रहें और कुछ सेकंड के लिए इस मुद्रा में ही रहें।
  • इस अवस्था में शरीर का पूरा भार पंजों पर होगा।
  • फिर धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए प्रारंभिक स्थिति में आ जाएं। आसन से बाहर निकलने के लिए सारे स्टेप्स विपरीत क्रम में करें।
  • इस पूरी प्रक्रिया को अपनी  क्षमता के अनुसार कम से कम 8 से 10 बार दोहराएं।
  • शुरुआत में संतुलन बनाए रखना मुश्किल हो सकता है लेकिन अभ्यास के साथ यह करना आसान हो जाएगा।

 

ताड़ासन योग करने के फायदे – Tadasana benefits in Hindi

माउंटेन पोज़ यानि ताड़ासन आम तौर पर सभी खड़े योग पोज़ के लिए शुरुआती स्थिति है और सूर्य नमस्कार में पहला पोज़ है। इसे कभी-कभी आराम करने की मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है और यह एक महान तटस्थ स्थिति के साथ-साथ मुद्रा में सुधार के लिए एक अच्छा आसन है।

कोई भी व्यक्ति जो नियमित रूप से ताड़ासन योग करता हैं और ताड़ासन करने का तरीका जानता हैं यानि सही विधि से ताड़ासन का अभ्यास करता है, तो उसे निम्नलिखित लाभ मिल सकते हैं ताड़ासन योग करने के फायदे यहाँ दिए गए हैं। –

  • इस आसन से शारीरिक और मानसिक संतुलन विकसित होता है।
  • शरीर की मुद्रा में सुधार करता है।
  • जांघों, घुटनों और टखनों को मजबूत बनाता है।
  • पेट और नितंबों को टोन करता है।
  • रीढ़ की हड्डी में तनाव लाकर, यह अपने विकारों को हटा देता है।
  • साइटिका से राहत दिलाता है।
  • फ्लैट पैरों के साथ मदद करता है।

 

ताड़ासन योग करने का सही समय – Tadasana kab karna chahiye

भोजन करने के तुरंत बाद इसे करने के अलावा यह आसन दिन में किसी भी समय किया जा सकता है। हालांकि, इसे सुबह जल्दी करना सबसे अच्छा है। यह आपके शरीर को बहुत अच्छी तरह से फैलाता है। दरअसल, पूरी रात एक ही पोज में रहने से हमारा शरीर अकड़ जाता है। ऐसे में यह आसन सुबह के समय करने से हमारे शरीर के अंग फिर से काम करने के लिए तैयार हो जाते हैं।

 

ताड़ासन योग करते समय सावधानियां – Precautions for Tadasana In Hindi

ताड़ासन योग करने के कई फायदे हैं और इसका अभ्यास किसी भी उम्र के लोग कभी भी कर सकते हैं। हालांकि इसका अभ्यास ज्यादातर सभी के लिए सुरक्षित है, लेकिन कुछ स्वास्थ्य समस्याओं वाले लोगों को इस आसन का अभ्यास करते समय सावधानी बरतनी चाहिए। लो ब्लड प्रेशर वाले लोगों को यह आसन नहीं करना चाहिए। हालाँकि, यदि आप गर्भवती हैं, तो इस योग आसन का अभ्यास केवल प्रशिक्षक द्वारा बताए अनुसार ही करें।

  • अगर आप सिर दर्द से परेशान हैं तो ताड़ासन योग करने से बचना चाहिए।
  • अनिद्रा (नींद की समस्या) से पीड़ित लोगों को ताड़ासन योग नहीं करना चाहिए।
  • निम्न रक्तचाप यानि लो ब्लड प्रेशर के रोगी इस योग को ना करें।

 

शुरुआत में ताड़ासन करने के टिप्स – Beginner’s Tip to do Tadasana in Hindi

जिन लोगों ने ताड़ासन योग पहले कभी नहीं किया है, वे इसे करने की विधि को अपनाते हुए नीचे बताई गई बातों का ध्यान रखें ताकि आपको इसे करने में परेशानी न हो।

  • शरीर को ऊपर की ओर खींचते समय बहुत अधिक बल न लगाएं।
  • ताड़ासन योग करते समय अगर आप अपने शरीर का संतुलन नहीं बना पा रहे हैं तो अपने पैरों को चिपकाने की बजाय कुछ दूरी बनाकर रखें। यह संतुलन बनाए रखने में मदद कर सकता है।
  • अगर आप रोजाना योग नहीं करते हैं तो इस योग के शुरूआती दिनों में शरीर पर ज्यादा जोर न डालें।

 

इसे पढ़ेंआयुर्वेदिक दिनचर्या

इसे पढ़ेंजानिए कैसे रखें शरीर को फिट

 

ताड़ासन से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले सवाल – Questions related to Tadasana in Hindi

ताड़ासन योग को लेकर लोगो के मन में कई सारे सवाल होते हैं जैसे क्या ताड़ासन से हाइट बढ़ती है?, ताड़ासन के क्या फायदे हैं? और ताड़ासन कितनी बार किया जा सकता है? आदि तो आइये जानते है कुछ सवालों के जवाब जो ताड़ासन योग को लेकर अक्सर पूछें जाते हैं। यहाँ दिए गए हैं कुछ सवालों के जवाब –

 

प्रश्न 1. क्या ताड़ासन से हाइट बढ़ती है?

जवाब – जानकारों के मुताबिक बढ़ते बच्चों की हाइट बढ़ाने के लिए किए जाने वाले आसनों में ताड़ासन भी एक आसन है। यह लम्बाई बढ़ने में मदद कर सकता हैं  हालांकि, इस बारे में सटीक वैज्ञानिक शोध नहीं किया गया है। 

इसे पढ़ें –  हाईट बढाने की आयुर्वेदिक दवा

प्रश्न 2 . ताड़ासन के क्या फायदे हैं?

जवाब – नियमित रूप से ताड़ासन करने के कई फायदे हो सकते हैं। जैसे यह घुटनों, जांघों और टखनों को मजबूत करने के साथ-साथ तनाव को दूर करने में मदद कर सकता है। इसके साथ ही यह साइटिका के दर्द से भी राहत दिला सकता है और यह शरीर के पोस्चर को सही बनता हैं 

प्रश्न 3. ताड़ासन कितनी बार किया जा सकता है?

जवाब – शुरुआत में ताड़ासन योग करते समय शरीर के संतुलन में दिक्कत आ सकती है। इसलिए शुरुआत में इसे रोजाना तीन से चार बार किया जा सकता है। वहीं, धीरे-धीरे कुछ हफ्तों के अभ्यास के बाद आप रोजाना आठ से दस बार ताड़ासन कर सकते हैं।

प्रश्न 4. ताड़ासन योग करने का सही समय क्या है?

जवाब – ताड़ासन योग करने का सही समय सुबह का टाइम हैं लेकिन अगर आपके पास सुबह टाइम नहीं हैं तो अप इसे दिन में किसी भी समय कर सकते हैं

 

Share

Leave a Comment